छाता और दिमाग तभी काम करते है, जब वो खुले हो, बंद होने पर दोनों बोझ लगते है.

कहते हैं कब्र में सुकून की नींद होती है, अजीब बात है की, यह बात भी ज़िन्दा लोगों ने कही.

उड़ने में बुराई नहीं है,  आप भी उड़े ! लेकिन उतना ही जहां से ज़मीन साफ दिखाई दें.

न कोई कठनाई न कोई तकलीफ, तो क्या मज़ा  है जीने में, बड़े बड़े तूफान थम जाते है, जब आग लगी  हो सीने में.

दुनिया के सबसे ज्यादा सपने, इस बात ने तोड़े है की, “लोग क्या कहेंगे..

सपनों को पाने के लिए समझदार नहीं पागल बनना पड़ता है.

सुनो. मत करना भरोसा गैरों पर, क्योंकि चलना तुम्हे है, अपने ही पैरों पर.

इंतज़ार करने वालो को सिर्फ उतना मिलता है ! जितना कोशिश करने वाले छोड़ देते है.